डियर वैलेंटाइन….

डियर वैलेंटाइन, सालों इंतज़ार के बावजूद हमारे बीच एक फ़ासला सा क़ायम है। जाने क्यों?

Advertisements

हैप्पी प्रॉमिस डे…

इस वैलेंटाइन वीक में प्रॉमिस डे पर आप ख़ुद से और अपने चाहने वाले से क्या वादा कर रहे हैं? वैसे हर साल वादा न तोड़ने का वादा करना सबसे अच्छा वादा होता है।

हैप्पी चॉकलेट डे…

'चॉकलेट डे' से याद आती है एक दीवानी सी लड़की जो हर मुलाक़ात के दौरान चॉकलेट दिया करती थी। लेकिन चॉकलेड डे के दिन ही उसने चॉकलेट दिए हों...ऐसा मुझे ध्यान नहीं है।

कविता लिखने का फार्मूला बताएं कैसे?

लिखने का शौक है तो लिखते चले जाइए...अपनी बातों को व्यक्त करते चले जाइए...सफ़र पर चलने वालों के सीखने का सिलसिला जारी रहता है. इसी सीखने के सिलसिले में पढ़ना भी शामिल है...लोगों से संवाद के सिलसिले लेखन के इस सफ़र को आगे ले जाते हैं.

मेरा नाम बाबूराम है..(पार्ट-1)

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम बाबूराम है. मुझे गाँव के बीच से गुजरने वाले हाइवे किनारे घूमना, बिस्किट खाना, बकरियों के साथ झगड़ा करना, रोटी की राह में बाधा बनने वाले पर भौंकना और पड़ोसी की भैंस के चारे में मुँह मारना बहुत पसंद है.  मेरा जन्म पश्चिमी राजस्थान के पहाड़ी गाँव में हुआ. मेरे ज़िले … Continue reading मेरा नाम बाबूराम है..(पार्ट-1)

गांव और मेट्रो

सहजता और जटिलता के बीचघूमती है गांव और मेट्रो की ज़िंदगीशाम होते ही रौशन होते हैं चिरागसारी रात रौशनी का पहरा होता हैशहर की चमकती  गलियों में गांव में बच्चों के लिए खेलने के मैदान खेतों और पहाड़ियों में जाने के मौके होते हैंजबकि मेट्रों में गलियों में गुलज़ार होती हैबच्चों के खेलों और करतबों की दुनियाजिससे … Continue reading गांव और मेट्रो

ठंढी होती चाय बहुत याद आएगी…

बातों के सिलसिले में चाय ठंढी पड़ जाती है। लेकिन बातों का सिलसिला जारी रहता है । चाय के ठंढे प्यालों की तरफ देखकर हम हंसते हैं कि अरे चाय तो ठंढी हो गई। चाय तो एक बहाना होती है, बातों के क्रम को जारी रखने का। लेकिन कुछ लोगों के साथ होने वाला संवाद … Continue reading ठंढी होती चाय बहुत याद आएगी…

अभी भी याद आता है पहला प्यार…

कई सारे मित्र तो आजकल प्रेम रस से सराबोर लग रहे हैं। लगता है साप्ताहिक प्रेम के उत्सव (वैलेण्टाइन वीक) की खुमारी रंग ला रही है। पत्रकार साथी तो अपनी खबरों में अपने प्रेम का सारा अनुभव रस निचोड़ रहे हैं, तो कोई गुलाब न मिलने के कारण दुःखी है। तो कोई लाल, गुलाब का … Continue reading अभी भी याद आता है पहला प्यार…