जनसंचार को नया आयाम देता सोशल मीडिया..

दो या दो से अधिक व्यक्तियों के बीच सूचनाओं, विचारों और भावनाओं का आदान प्रदान संचार कहलाता है. लेकिन जब हम किसी दृश्य या श्रव्य माध्यम के जरिए समाज के बड़े हिस्से तक पहुंचने की कोशिश करते हैं तो उसे जनसंचार कहते हैं. वैश्विक होती दुनिया में जनसंचार हमारे रोजमर्रा के जीवन का अभिन्न हिस्सा हो गया है.

वर्तमान में सोशल मीडिया ने जनसंचार को एक नया आयाम दिया है. इसके कारण तेज़ी के साथ सूचनाओं और विचारों का प्रसार संभव हो गया है. किसी भी वीडियो या तस्वीर को लाखों करोड़ों लोगों तक पहुंचाने की क्षमता सोशल मीडिया में है. लोगों तक पहुंच ही इसकी सबसे बड़ी ताक़त है. इसी ताक़त ने इसे वर्चुअल दुनिया में मौजूद लोगों के लिए सोशल मीडिया के इस्तेमाल को अनिवार्य सा बना दिया है.

भारत में भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ आंदोलन छेड़ने और माहौल बनाने की बात हो. या फिर दिल्ली में महिलाओं के ख़िलाफ़ होने वाली हिंसा का विरोध करने के लिए सड़कों पर उतरने का मसला हो, सभी जगहों पर सोशल मीडिया का व्यापक इस्तेमाल दिखाई देता है. हम कह सकते हैं कि सोशल मीडिया और ब्लॉगिंग जैसे प्लेटफार्म ने सूचना के क्षेत्र में लोकतंत्र को स्थापित करने का काम किया है. इससे एक सामान्य व्यक्ति को भी अपनी बात रखने का मंच मिला. उसे बिना किसी दबाव और किसी के असर में आए अपनी बात रखने का मौका मिला.

जनसंचार माध्यमों का प्रमुख काम सूचना देना, लोगों को शिक्षित करना, मनोरंजन करना, एजेंडा तय करना, सरकार और संस्थाओं के कामकाज की निगरानी रखना और विचार-विमर्श का मंच प्रदान करना माना जाता है. लेकिन डिजिटल क्रांति के युग में जनसंचार के स्थापित कामों का दायरा टूट रहा है. ट्विटर, फ़ेसबुक, ब्लॉग, ह्वाट्स ऐप के दौरा में सूचना, जागरूकता और मनोरंजन के वैकल्पिक माध्यम लोगों के सामने खुले हैं. एजेंडा तय करने का काम केवल मीडिया ही नहीं….लोग भी कर रहे हैं. ट्विटर के ट्रेंड की चर्चा हो या फ़ेसबुक के ट्रेंड की. हैशटैग पर सभी लोगों की नज़रें होती हैं कि आज दुनिया में किस मुद्दे पर चर्चा हो रही है.

सोशल मीडिया पर सूचनाओं की शक्ल में पूरी दुनिया सिमटी हुई सी प्रतीत होती है. भारत के मीडिया में इसराइल और फ़लिस्तीन के मुद्दे पर चर्चा होती है. लेकिन जब संसद में इस मुद्दे पर सरकार चर्चा से बचती है तो कुछ चैनलों पर इसकी चर्चा होती है कि आख़िर भारत की सरकार इस संवेदनशील मुद्दे पर चर्चा कराने से क्यों बचना चाहती है? इसके बारे में कूटनीतिज्ञों का कहना है कि भारत को अपने हितों की रक्षा करनी चाहिए. इसके साथ-साथ दोनों देशों के साथ बेहतर संबंधों को देखते हुए संतुलित प्रतिक्रिया देनी चाहिए. लेकिन इसके इतर सोशल मीडिया में लोग इसराइल के लोगों की तस्वीरों पर चर्चा कर रहे हैं…जिसमें वो सोफे पर बैठकर ग़ज़ा पर इसराइल की तरफ़ से होने वाले हमले का लुफ़्त उठाते नज़र आ रहे थे. इसके समर्थन और पक्ष में लोगों की राय दिखाई देती है.

मीडिया में सोशल मीडिया का दख़ल बढ़ता जा रहा है. एक अंतरराष्ट्रीय चैनल पर दुनिया भर के अख़बारों की समीक्षा के दौरान एक लेख का जिक्र किया गया, जिसका शीर्षक था कि अफ़वाहों के युद्ध में सोशल मीडिया को कैसे हथियार के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है? (How social media became weapon in propaganda war?) यह बात इसराइल और फ़लिस्तीन के बीच बढ़ते तनाव के कारण पैदा हुए हालात पर चर्चा के दौरान कही गई थी कि कैसे अफ़वाहों का प्रसार एक दूसरे के ख़िलाफ़ नफ़रत घोलने के लिए किया जा रहा है. तीन इसराइली युवकों के अपहरण और हत्या के बाद एक फ़लिस्तीन युवा की हत्या के बाद दोनों  देशों के बीच के हालात बेहत तल्ख़ हो गए थे. अभी इसराइल और फ़लस्तीन में चरमपंथी संगठन हमास की तरफ़ से हमलों का सिलसिला जारी है. इस पर दुनिया के विभिन्न देश इसराइल और फलस्तीन के पक्ष में अपनी राय रख रहे हैं. 

तो अभी दुनिया में मलेशिया एअरलाइंस के विमान पर होने वाले हमले की चर्चा सोशल मीडिया और मीडिया में है…इसके बारे में लोग चर्चाएं कर रहे हैं. कह सकते हैं कि संचार हमारे जीवन का अभिन्न हिस्सा बन चुका है. जनसंचार के तमाम माध्यम और सोशल मीडिया हमारी ज़िंदगी का अभिन्न हिस्सा बन चुके हैं. सूचना, शिक्षा और मनोरंजन के साथ-साथ जनमंत निर्माण करने और देश का एजेंडा सेट करने में सोशल मीडिया की भूमिका बेहद अहम हो गई है. भारत के 16वीं लोकसभा चुनावों के दौरान सोशल मीडिया के इस्तेमाल का असर लोगों ने देखा था. सत्ता में वापसी करने वाली पार्टी ने इसे अपनी ताक़त करार दिया था, तो वहीं दौड़ में पीछे रहने वाली कांग्रेस ने इसे अपनी कमज़ोरी करार दिया था.

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s